LATEST UPDATES

गुप्त पर्व इस दिन से शुरू हो रहा है, पता लगाना का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

  • गुप्त नवरात्र में 10 महाविद्याओं की पूजा की जाती है
  • सालभर में कुल चांच
  • गुप्त नवरात्रि 2022: हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से, साल भर में कुल चौं. दो सामान्य और गुप्त बातें हैं I नवरात्रि में 10 महाविद्याओं मां काली, स्टार देवी, त्रिपुर सुंदरी, भविमात्री, माता छिन्नमस्ता, माता छिन्नमस्ता, माता ध्रुवती, माता बंगलादिशा, मातंगी और कमला देवी की प्रसव है। पंचांग के अनुसार, आषाढ़ माह की गुप्त सूचना 30 जून 2022 से शुरू हो रही है और 9 जुलाई 2022 को कन्फर्म होगा।

    आषाढ़ रहस्य नवरात्रि 2022 घटाना शुभ मुहूर्त (गुप्त नवरात्रि 2022 घटस्थापना शुभ मुहूर्त)

    आशाढ़ अधिष्ठापन अधिष्ठापन, 30 नवंबर, 2022 को नवरात्रि प्रतिपदा तिथि की शुरुआत – 29 नवंबर 2022, 8 बजकर 21

    नवरात्री प्रतिपदा तिथि की तारीख – 30 नवंबर 2022, सुबह 10 बजकर 49
    घटाव स्थापना मुहूर्त – 5 बजकर 26 से 6 बजकर 43 तक

      मंत्र का जाप (गुप्त नवरात्रि मंत्र)

      पौराणिक काल से लोगों की भविष्यवाणियां. गुप्त सत्य में शक्ति की स्थिति है जीवन तनाव मुक्त। तनरा अयत अयरा सिद्धि के लिए ॐ एं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विचै, ॐ क्लीं सर्वाबाधा विनिर्मुक्तो धन्य धान्य सुतायवितं, मत्य प्रसादें भविष्य संरक्षिकाः क्लीं ॐ, ॐ श्रीं ह्रीं हसौ: नील फीट जापस्वय्य आदि विशेष मंत्रों का जप।

      गुप्त नवरात्रि पूजा विधि (गुप्त नवरात्रि पूजा विधि)

      जिस तरह से वे नियमित रूप से विभाजित होते हैं उन्हें नियमित रूप से विभाजित किया जाता है। इन खानों में पूजा-सुंदर की पूजा की जाती है। साथ ही साथ रिपोर्ट का भी प्रभाव पड़ता है। इस दुर्गा सप्तशती का पाठ करें।

Back to top button
%d bloggers like this: