POLITICS

क्यों होता है दुनिया के सभी विमानों का रंग सफेद, जानिए पांच कारण

Why are passenger planes white in colour?: सफेद रंग अन्य रंगों की अपेक्षा हल्का होता है और इससे विमान संचालन की लागत में बड़ी कमी आती है।

आपने अपनी जिंदगी में हजारों बार एयरप्लेन को देखा और एक बात को अक्सर नोटिस किया होगा कि दुनिया में उड़ने वाले लगभग सभी यात्री विमान सफेद रंग के ही होते हैं। ऐसे में आपके मन में सवाल भी उठा होगा कि ऐसा क्यों होता है कि सभी यात्री विमान सफेद रंग में क्यों रंगे होते हैं। एयरलाइन कंपनी बदलने के बाद भी लोगो आदि का रंग तो बदल जाता है लेकिन कभी भी प्लेन का कलर नहीं बदलता है। आज हम आपको ऐसे पांच कारण बताने जा रहे हैं जिनकी वजह से यात्री प्लेनों का कलर सफेद ही होता है।

प्लेन को गर्मी से बचाता है: किसी भी प्लेन पर सफेद रंग करने के पीछे का सबसे बड़ा कारण होता है कि सफेद रंग अपने अंदर अन्य रंगों की अपेक्षा गर्मी को आसानी से नहीं सोखता है क्योंकि जब भी प्लेन उड़ता है तो आकाश में उसका सीधा सामना सूरज होता है। ऐसे में प्लेन का कलर सफेद होने के कारण जल्दी गर्म नहीं होता है, इससे फ्यूल की खपत भी कम होती है और एयरलाइन कंपनियों का करोड़ों रुपए बच जाते हैं।

फीका नहीं पड़ता: सफेद रंग की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह कभी भी फीका नहीं पड़ता है। प्लेन पुराना होने के बावजूद भी सफेद कलर पहले की तरह चमकता रहता है जबकि दूसरे कलर हवा में उड़ान भरने के साथ अलग-अलग परिस्थितियों का सामना करने के कारण फीके पड़ जाते हैं।

आसानी से किसी दरार और स्क्रैच का पता लगना: सफेद रंग की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि इस पर पड़ने वाला कोई भी स्क्रैच और दरार आसानी से दिख जाते हैं, जिस कारण प्लेन में आने वाली किसी भी खराबी का आसानी से पता लगाया जा सकता है और किसी भी अनहोनी से प्लेन को बचाने में मदद मिल सकती है।

पक्षी से टकराने की संभावना कम: प्लेन की ओर से उड़ान भरते और उतरते समय किसी पक्षी से टकराने का खतरा सबसे अधिक होता है। अन्य रंगों की अपेक्षा सफेद रंग इस खतरे को काफी हद तक कम करता है। सफेद रंग प्लेन की विजिबिलिटी को बढ़ा देता है और इस कारण से पक्षी उसकी आसानी से पहचान कर पाते हैं और उनके टकराने का खतरा कम हो जाता है।

वजन में हल्का: एयरलाइंस अक्सर अपने विमान को हल्का बनाने के लिए अलग-अलग तरीके अपनाती हैं। उनकी कोशिश होती है कि विमान को हल्का से हल्का रखा जाए ताकि उसकी उड़ान भरने की लागत कम से कम हो। वहीं, सफेद रंग अन्य रंगों की अपेक्षा में सबसे हल्का और सस्ता होता है क्योंकि एक प्लेन को पेंट करने में बड़ी मात्रा में रंग का इस्तेमाल किया जाता है। कोई और दूसरे कलर का प्रयोग करने पर प्लेन का वजन भी बढ़ जाता है, इस कारण दुनिया भर की ज्यादातर एयरलाइंस अपने विमानों पर सफेद रंग का उपयोग ही करती है।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: