POLITICS

कोरोना वैक्सीनेशन में बड़ी लापरवाही: कानपुर में मोबाइल पर बात करते हुए नूर ने महिला को दो बार टीका लगाया, निगरानी के बाद घर भेजा; डीएम ने जांच के आदेश दिए

विज्ञापन से परेशान है? विज्ञापन के बिना खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कानपुर ४ घंटे पहले

  • कॉपी नंबर
  • वीडियो
  • वैक्सीन की ओवरडोज पर एक्सपर्ट ओपिनियन कानपुर के CMHO ने वैक्सीनेशन सेंटर पर कर्मचारियों के मोबाइल रखने पर पाबंदी लगा दी है। कोरोना वैक्सीनेशन में हुई इस गंभीर लापरवाही पर हमने वैक्सीन एक्सपोजर डॉ। चंद्रकांत लहारिया से बात की तो उन्होंने बताया कि आमतौर पर वैक्सीन की थोड़ी ज्यादा मात्रा में जाने से कोई नुकसान नहीं होता।] हालांकि, शरीर में बनने वाली कोशिकाओं की संख्या पर इसका असर पड़ सकता है। साथ ही वे कहते हैं कि अगर वैक्सीन की डबल डोज दी गई है, तो शरीर में वैक्सीन के साधारण साइड इफेक्ट्स बहुत ज्यादा देखने को मिल सकते हैं। उनके अलावा किसी गंभीर नुकसान की आशंका नहीं है।

    वैक्सीन की दूसरी डोज पर कोई असर नहीं पड़ेगा
    वैक्सीन के डबल डोज पर डॉ। चंद्रकांत लहारिया का कहना है कि इसकी वैक्सीन की सेकेंड डोज (बूस्टर डोज) की मात्रा और समय पर कोई अंतर नहीं होगा। इसका मतलब यह है कि जितनी मात्रा में और जितनी तारीख को सेकेंड डोज लगाई जाए, वह केवल लगेगी।

    Back to top button
    %d bloggers like this: