POLITICS

कोरोना के बिगड़े हाल: पीएम मोदी की आज मुख्य सचिवों के साथ बैठक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री इन पांच मांगों को रखेंगे; पवार बोले-केंद्र लगातार मदद कर रहे हैं

पर महाराष्ट्र मुख्यमंत्री

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई एक घंटा पहले

  • कॉपी नंबर
  • अन्य मुख्यमंत्रीयों के साथ CM उद्धव और PM मोदी के बीच यह बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से होगी। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar ) सीएम उद्धव और पीएम मोदी के बीच यह मुलाकात वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से होगी। (फाइल फोटो) महाराष्ट्र और देश के कई हिस्सों में जारी कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री आज फिर एक बार मुख्य सचिवों के साथ बैठक करने जा रहे हैं। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से होने वाली इस बैठक में महाराष्ट्र में विकराल होते कोरोना की स्थिति पर प्रमुखता से चर्चा होने की उम्मीद जताई जा रही है। सीएम उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में वैक्सीन के घटते स्टॉक, ऑक्सीजन की बढ़ती मांग और वैक्सीनेशन के लिए उम्र सीमा घटाने का मुद्दा उठा सकते हैं। इसके अलावा बैठक में स्थानीय स्तर पर लॉकडाउन और कड़े प्रतिबंध लगाने पर भी बात हो सकती है।

    )

  • प्रतिदिन 6 लाख वैक्सीन की डोज महाराष्ट्र को मुहैया कराई जाती हैं।
  • रेमडेसिवर की कीमत को नियंत्रित की जाए।
  • ऑक्सीजन की सप्लाई पड़ोसी राज्यों से बढ़ाई जाए।
  • खराब पड़े वेंटीलेटर के तकनीकी मदद दी जाए।
  • वैक्सीनेशन के लिए उम्र सीमा को 45 से कम करके 25 साल तक किया जाएगा।
  • कोरोना के बिगड़ते हाल के बीच एक ओर जहां शिवसेना के नेता और मंत्री केंद्र पर वैक्सीन नहीं देने जैसे आरोप लगा रहे हैं, वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि महामारी के इस कठिन समय में केंद्र सरकार लगातार राज्य सरकार का सहयोग कर रही है। गुरुवार को पवार ने कहा- ‘केंद्र सरकार महामारी के इस कठिन समय में राज्य सरकार के साथ सहयोग कर रही है। हम सभी को एकजुट होकर इस खतरे से लड़ना होगा। राज्य और केंद्र दोनों को साथ आना होगा और महामारी से लड़ने का तरीका खोजना होगा। ’ इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने केंद्र सरकार पर महाराष्ट्र सरकार को नीचा दिखाने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा- ‘महाराष्ट्र को नीचा दिखाने और बदनाम करने की कोशिश चल रही है। हर्षवर्धन से ये उम्मीद नहीं थी। महाराष्ट्र एक बड़ा राज्य है और सबसे ज्यादा प्रेशर है। एक-दूसरे के ऊपर टिप्पणियाँ ना करके एक साथ मिल कर चलना चाहिए। महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने की कोशिश पहले दिन से चल रही है, लेकिन ये कोशिश कामयाब नहीं होगी। ’

      महाराष्ट्र में खत्म होने वाला वैक्सीन का स्टॉक है

      प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) प्रदीप व्यास ने बताया- ‘बुधवार की सुबह तक राज्य में लगभग 14 लाख वैक्सीन डोज था। कई जिलों में आज या कल तक स्टॉक खत्म हो जाएगा। केंद्र को इस बात की जानकारी है और हमने लिखा में बताया है। यदि रंगों और वैक्सीन की उपलब्धता हो तो महाराष्ट्र में रोज आसानी से पांच लाख निशाने दिए जा सकते हैं। ’

        महाराष्ट्र में सप्ताह में 40 लाख डोज की जरूरत है

      महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा यह भी बताया कि राज्य को 40 लाख डोज एक सप्ताह में जरूरी है। हम दिन 4-5 लाख लोगों को वैक्सीन दे रहे हैं, ऐसे में अगर वैक्सीन नहीं मिली तो बड़ी समस्या हो सकती है। टोपे ने कहा, ‘हम केंद्र के 6 लाख डोज हर दिन लगाने के चैलेंज को स्वीकार करते हैं, लेकिन वैक्सीन होनी चाहिए तो चाहिए।’

      टीके की कमी से सातारा में रोका गया वैक्सीनेय महाराष्ट्र के सातारा में बुधवार रात से कोरोना वैक्सीनेशन कार्यक्रम पर वर्तमान के लिए रोक लगा दी गई है। इसके पीछे बड़ा कारण कोरोना वैक्सीन की कमी को बताया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से जिले में कोरोना वैक्सीन के खत्म होने का हवाला दिया गया है। इस बात की जानकारी देते हुए सतारा जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय गौड़ा ने बताया कि सातारा में अब तक 45 साल से अधिक उम्र के 2.6 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है।

      की भारी किल्लत होने वाली है

    राज्य की खाद्य और औषधि विभाग (FDA) ने आने वाले दिनों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर आशंका व्यक्त की है।] राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने एफडीए को यह संकेत दिया है कि अप्रैल के अंत तक महाराष्ट्र में सक्रिय मामले की संख्या 9 लाख तक पहुंच सकती है। इसी के साथ ऑक्सीजन की मांग भी दोगुनी हो जाएगी। फरवरी महीने में महाराष्ट्र के अस्पतालों में जहां 150 से 200 मिलियन टन ऑक्सीजन की जरूरत थी, वहीं यह मांग मार्च के आखिर तक 650 से 750 मिलियन टन तक पहुंच गई है।

    6 अप्रैल को महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की खपत 777 मिलियन टन तक पहुंच गई। महाराष्ट्र में प्रतिदिन ऑक्सीजन उत्पादन की अधिकतम क्षमता 1250 टन है। वर्तमान में महाराष्ट्र हर दिन 30 से 50 टन टन ऑक्सीजन गुजरात से लेता है और जल्द ही छत्तीसगढ़ से भी उसे हर दिन 50 टन टन ऑक्सीजन मिलेगा।

      आज केंद्र से आएगी 30 लोगों की मेडिकल टीम महाराष्ट्र में बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने 30 लोगों की एक मेडिकल टीम को महाराष्ट्र में भेजा है, जो राज्य के अधिकारियों को कोरोना कंट्रोलिंग के लिए स्ट्रेटरीज बनाने में मदद करेगी।

    कुल टेस्ट , 48, 736 कुलपति

      55652 कुल ठीक हुआ

    , 627 रेट्रो

    82.36%

    Back to top button
    %d bloggers like this: