POLITICS

कुश्ती महासंघ की आज होने वाली बैठक रद्द गोंडा में चल रही चैंपियनशिप भी रद्द; एजीएम में पहुंचे रिफ्रेश; 4 सप्ताह कोई गतिविधि नहीं

लखनऊ36 मिनट पहले

डांस के बीच भारतीय कुश्ती संघ (डब्ल्यूएफआई) की होने वाली एजीएम की बैठक आज रद्द कर दी गई। संघ के अध्यक्ष बृजभूषण के प्रतीक ने बताया कि अयोध्या के हेरिटेज होटल में सुबह 10 बजे बैठक होने वाली थी। लेकिन, अब इसे रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा, गोंडा में चल रहे कुश्ती के राष्ट्रीय चैंपियन को भी रद्द कर दिया गया है।

मीटिंग रद्द होने के बाद विवरण से जुड़ें परिचित वापस आ रहे हैं। बैठक में जनरल काउंसिल के 54 सदस्यों को शामिल किया जाना था। सूत्रों के अनुसार, फेडरेशन के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह 4 सप्ताह तक मीडिया में कोई बयान नहीं देंगे। डब्ल्यूएफआई की इस दौरान कोई बैठक या कोई कार्यक्रम नहीं होगा।

इससे पहले, शनिवार शाम खेल मंत्रालय ने डब्ल्यूएफआई की सभी गतिविधियों को रोक दिया। फेडरेशन के सहायक सचिव विनोद तोमर को अनुशासनहीनता के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। विनोद पर खिलाड़ियों से रिश्वत लेकर करोड़ों की संपत्ति बनाने का आरोप है।

बृजभूषण पर यौन शोषण के जेहाद का WFI ने दिया जवाब। 12 प्रवाइंट्स में अपनी सफाई दी है… WFI ने 72 घंटे में खेल मंत्रालय को अपना जवाब दिया है। डब्ल्यूएफआई के पत्र भास्कर से मिला। जिसमें पहलवानों के धरना-प्रवचन में बताया गया है बड़ा साज़िश। गलत व्यवहार, गलत व्यवहार और यौन उत्पीड़न के झूठ को झूठा बताया। फेडरेशन ने कुल 12 प्रवॉट्स में अपनी सफाई दी है।

फेडरेशन ने कहा, कुश्ती संघ की तारीख तय हुई है, जो आपकी धारणा के हिसाब से चलती है। इसलिए अध्यक्ष या किसी अन्य सदस्य की मनमानी का सवाल ही नहीं उठता।

  • WFI के नेताओं द्वारा बताए गए झूठ का जवाब दिया गया है-
कुश्ती चैंपियनशिप को देखें सांसद बृजभूषण शरण सिंह।  मंच के बीचों बीच आपस में भिड़े मुख्य अतिथि कुरसी पर बैठे थे।

कुश्ती चैंपियनशिप को देखें सांसद बृजभूषण शरण सिंह। मंच के बीचों बीच आपस में भिड़े मुख्य अतिथि कुरसी पर बैठे थे।

1- खेल मंत्रालय के जवाबी कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने नोटिस दिया है। फेडरेशन की ओर से कहा गया- प्रदर्शन कर रहे खिलाड़ी अपने निजी हित के लिए WFI को बदनाम कर रहे हैं। विरोध के पीछे उनके पर्सनल एजेंडे हैं। डब्ल्यूएफआई में अध्यक्ष या कोई भी मन नहीं कर सकता। यहां कुप्रबंधन की कोई मान्यता नहीं है।

2- WFI के व्यवहार के लिए समय-समय पर नियम, पॉलिसी बनाए रखते हैं। जिनमें राष्ट्रीय शिविर, शिक्षा और कोचिंग शिविर के लिए नियम जारी हैं। नेशनल कोचिंग कैंप और इंटरनेशनल कॉम्पिटिशन में पार्टिसिपेट करने की जानकारी पब्लिक डोमेन पर उपलब्ध है।

3- WFI के तीन बार अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने हमेशा पहलवानों के लिए सर्वश्रेष्ठ दिया है। साथ ही साथ राष्ट्रीय हित में मौजूदा अध्यक्ष ने डब्ल्यूएफआई की छवि को बेहतर बनाया है। कुश्ती खेल राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संपर्क करें। यह संभव के बिना संभव नहीं था। डब्ल्यूएफआई ने 2022 में आयोजित हो चुके टूर्नामेंटों के बारे में भी जानकारी साझा की है।

4- WFI ने अपने खिंचाव के माध्यम से, पहलवानों के लिए अच्छा काम किया और राष्ट्रीय हित में बेहतर योगदान दिया। डब्ल्यूएफआई लॉज ने 2022 में खेल प्रतियोगिता के जरिए कई सारे मेडल जीते हैं। जिस पर संघ को गर्व है।

5- किसी भी तरह की कोई शिकायत अभी तक प्रदर्शनकारी पहलवानों ने नहीं की है। इसलिए, बिना किसी शिकायत के ऐसी किसी भी मीडिया रिपोर्ट को डब्ल्यूएफआई खारिज करता है। इसके बजाय एक तरह से बदनाम करने के लिए ऐसा किया गया।

6- सरकार की चेतावनी, नियमों को देखते हुए पहलवानों की मदद और समर्थन करने के अलावा WFI के बैठने की व्यवस्था कुश्ती उन्मुख है न कि पहलवान सेंट्रिक। भारत या किसी भी इंटरनेशनल बॉडीज और किसी भी कोच या रेसलर्स को गलत काम करने की इजाजत नहीं है।

7- WFI का व्यवहार सबसे अच्छे तरीके से कुश्ती को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। जिसमें मेरा संभव सफल रहा है। विशेष रूप से मौजूदा अध्यक्ष के कार्यकाल में। WFI के ट्रैक रिकॉर्ड के अनुसार, कुश्ती के साथ-साथ पहलवानों की देखभाल के बारे में सोच के हिसाब से देखभाल करता है।

सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि यह मेरा कार्यक्रम है, इसलिए आया हूं।  22 जनवरी को होने वाली चैट में शामिल होंगे।

सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि यह मेरा कार्यक्रम है, इसलिए आया हूं। 22 जनवरी को होने वाली चैट में शामिल होंगे।

  • यौन उत्पीड़न के झूठ का भी जवाब दिया

8- कुश्ती संघ शुरू हुआ है, जो अपने कॉन्स्टिट्यूशन के होश से जारी है। इसलिए अध्यक्ष या किसी अन्य सदस्य की मनमानी का सवाल ही नहीं उठता।

9- यौन उत्पीड़न के संबंध में शिकायतों की सुनवाई के लिए WFI ने सबसे पहले एक ‘यौन खिंचाव समिति’ बनाई है, जिसमें 5 लोग मुख्य रूप से शामिल हैं-

  • वीएन प्रसाद, पिरामिड, WFI: अध्यक्ष
  • जय प्रकाश, ओलंपियन, संयुक्त सचिव, डब्ल्यूएफआई: कमिशनर
  • विशाल सिंह, कार्यकारिणी सदस्य : सदस्य
  • देबेंद्र कुमार साहू, कार्यकारी सदस्य, डब्ल्यूएफआई: सदस्य
  • साक्षी मलिक, अर्जुन/ध्यानचंद खेल पुरस्कार विजेता: सदस्य
खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और पहलवानों के बीच 7 घंटे काम करते हैं।  इसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में धरना खत्म करने का ऐलान किया गया था।

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और पहलवानों के बीच 7 घंटे काम करते हैं। इसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में धरना खत्म करने का ऐलान किया गया था।

10- यौन उत्पीड़न समिति के बारे में WFI की वेबसाइट पर सभी जानकारी उपलब्ध है। यहां कोई भी पीड़ित पहलवान अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। किसकी समिति कानून के अनुसार जांच करती है। हालांकि, इस तरह की किसी भी तरह की कोई शिकायत अभी तक प्रदर्शनकारी पहलवानों ने नहीं की है। इसलिए, बिना किसी शिकायत के इस तरह का भ्रम फैलाया जाता है। सभी आरोप हैं।

11- यौन उत्पीड़न के आरोप पर जवाब देते हुए डब्ल्यूएफआई का कहना है कि प्रदर्शनकारी पहलवानों का धरना और प्रेस कॉन्फ्रेंस में बैठ कर जिस तरह की बात कही जाती है, वह खुद को महसूस करता है के स्वार्थ और किसी दूसरे के दबाव में आकर ऐसा किया जा रहा है। WFI, उसके अध्यक्ष या कोच के साथ व्यवहार करता है।

12-यौन उत्पीड़न समिति की रिपोर्ट में अभी तक ऐसा एक भी आरोप सही नहीं है। ऐसे आरोप भी कभी सामने नहीं आए। इसलिए इस तरह के आरोप और गलत हैं। इस मामले में कोई सच्चाई नहीं है। मीडिया के माध्यम से संघ और अध्यक्ष को बदनाम किया जा रहा है।

पहलवान बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट शुक्रवार शाम 6 बजे खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के घर पहुंचे।

पहलवान बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट शुक्रवार शाम 6 बजे खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के घर पहुंचे।

कुश्ती संघ के अध्यक्ष पर खिलाड़ियों के आरोप

  • विनेश का आरोप : शिविरों में लड़कियों का शोषण होता है। जान से मारने की धमकी मिलती है।
  • बजरंग पुनिया के आरोप : फेडरेशन ध्यान नहीं देता, नीचा दिखता है।
  • बबीता फोगाट के आरोप : जहां आग होती है, वहीं धुआं दिखता है।
  • अन्य : पहलवान हमारे निजी जीवन में निगरानी रखते हैं।

अब समझ से जुड़ा पूरा मामला क्या है

18 जनवरी को विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक समेत करीब 30 पहलवान दिल्ली के जंतर-मंतर पर भारतीय कुश्ती संघ के खिलाफ धरने पर बैठ गए। बाद में इस प्रदर्शन में 200 से ज्यादा खिलाड़ी शामिल हो गए। उन पर डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कुछ कोच पर ओलंपिक विजेता खिलाड़ियों से यौन उत्पीडऩ का आरोप लगाया गया। पहलवानों ने डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष से इस्तीफा देने की मांग की।

रेसलर विनेश फोगाट ने कहा कि हमारे आरोप गलत हैं। हमें सबके सामने आने के लिए मजबूर किया गया। मैं आपके सम्मान के लिए लड़ रहा हूं। हम पूरे देश को यह नहीं बताना चाहते कि देश की बेटियों के साथ क्या हुआ है। जिस दिन सभी लड़कियां मीडिया को बताएंगी कि हमारे साथ क्या हुआ, वो कुश्ती का दुर्भाग्य होगा।

अगर मांगा नहीं गया तो हम इन लड़कियों के साथ एफआईआर करेंगे। डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को जेल भिजवाएंगे। वहीं, बजरंग पुनिया ने कहा कि हमारे साथ प्रूफ 6-7 लड़कियां हैं, रियल प्रेसिडेंट ने शोषण किया है।

Back to top button
%d bloggers like this: