POLITICS

कुछ लोग चाहते हैं घर की कांग्रेस, गांधी परिवार छोड़े पार्टी की कमान

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी नेतृत्व से पूछा कि राहुल गांधी ने किस अधिकार के तहत चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब में कांग्रेस के चेहरे के रूप में घोषित किया था जब वो पार्टी अध्यक्ष नहीं थें।

पांच राज्यों में कांग्रेस पार्टी की करारी हार के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कांग्रेस और गांधी परिवार पर सीधा हमला बोला है। कपिल सिब्बल ने द इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में कहा कि वह न तो विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार से हैरान हैं और न ही CWC के फैसले से जिसमें कहा गया कि वो सोनिया गांधी के नेतृत्व में विश्वास रखते हैं। उन्होंने कहा कि CWC के बाहर बड़ी संख्या में नेताओं के दृष्टिकोण पूरी तरह से अलग है।

पार्टी के नेतृत्व पर पूछे गए सवाल के जवाब में सिब्बल ने कहा कि, “हमने जो पराजय देखी है, उसके बाद नेतृत्व (गांधी परिवार) को यह स्थान किसी और के लिए छोड़ देना चाहिए और जो निर्वाचित होगा नामित नहीं। उस निर्वाचित व्यक्ति को प्रदर्शन करने दें।” कपिल सिब्बल ने आगे कहा कि, “CWC के बाहर एक कांग्रेस है, यदि आप चाहें तो उनके विचारों को सुनें। हमारे जैसे बहुत से नेता जो CWC में नहीं हैं, लेकिन कांग्रेस से अलग तरह का दृष्टिकोण रखतें हैं। क्या इससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि हम CWC में नहीं हैं? उनके अनुसार CWC पूरे भारत में कांग्रेस पार्टी का प्रतिनिधित्व करती है। मुझे नहीं लगता कि यह सही है।”

गांधी परिवार के पीछे हटने के सवाल पर कपिल सिब्बल ने कहा कि, ” मैं दूसरों की बात नहीं कर सकता। यह शुद्ध रूप से मेरा निजी विचार है कि आज कम से कम मुझे ‘सब की कांग्रेस’ चाहिए। कुछ अन्य ‘घर की कांग्रेस’ चाहते हैं। मैं निश्चित रूप से ‘घर की कांग्रेस’ नहीं चाहता। मैं अपनी आखिरी सांस तक ‘सब की कांग्रेस’ के लिए लड़ूंगा। ‘सब की कांग्रेस’ का मतलब सिर्फ एक साथ नहीं होना है, बल्कि भारत में उन सभी लोगों को एक साथ लाना है जो बीजेपी को नहीं चाहते हैं।”

वहीं राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष बनाने के सवाल पर कपिल सिब्बल ने कहा कि, “हम मान रहे हैं कि राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष नहीं हैं और अध्यक्ष सोनिया गांधी हैं। राहुल गांधी पंजाब गए और घोषणा की कि चरणजीत सिंह चन्नी मुख्यमंत्री होंगे। उसने ऐसा किस हैसियत से किया? वह पार्टी के अध्यक्ष नहीं हैं, लेकिन वे सभी निर्णय लेते हैं। वह पहले से ही वास्तविक अध्यक्ष हैं। तो वे क्यों कह रहे हैं कि राहुल गांधी पार्टी की बागडोर वापस ले लें।”

कपिल सिब्बल ने आगे कहा कि, “मैं कांग्रेसी रहूंगा। कांग्रेसी कौन है? जो संवाद में विश्वास रखता है, सबको साथ लेकर चलता है, पार्टी की भलाई के लिए अपना समय बलिदान करने को तैयार है, समाज के सभी वर्गों के साथ गठबंधन बनाना चाहता है। यही कांग्रेस है, जिसकी हमें रक्षा करने की जरूरत है।”

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: