POLITICS

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक: सोनिया का आरोप

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय

    • सोनिया गांधी CWC मीटिंग अपडेट; नरेंद्र मोदी सरकार पर कांग्रेस अध्यक्ष का अटैक इंडिया ओवर कोविड सिचुएशन

    विज्ञापन से परेशान है? विज्ञापन के बिना खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

    नई दिल्ली 2 घंटे पहले

    • कॉपी नंबर

    कोरोना महामारी के कारण देशभर में बिगड़ती स्थितियों पर शनिवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक हुई। बैठक में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। सोनिया ने कहा कि संक्रमण की पहली वेव के बाद केंद्र सरकार को आज एक साल का पूरा समय मिला, लेकिन सरकार ने मेडिकल सुविधाओं को ठीक करने के बजाए सिर्फ राजनीति की।

    कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गैरकानूनी राज्यों के साथ भेदभाव का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी मुख्य कार्यकर्ताओं और कांग्रेस के सहयोगी मुख्य सचिवों ने कई बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके विभागीय मंत्रियों को पत्र लिख कर आवश्यक सामानों की मांग की है, लेकिन केंद्र सरकार ने चुप्पी साध रखी है।

    कई राज्यों में वैक्सीन नहीं है, वेंटिलेटर नहीं है, ऑक्सीजन नहीं है। ये भी देखने में आया है कि कुछ राज्यों को प्राथमिकता के आधार पर ट्रीट किया जा रहा है। यह भेदभाव अच्छा नहीं है।

    सोनिया ने कहा कि देश में कोरोना का पहला मामला पिछले साल 30 जनवरी को आया था, उसके बाद सरकार के पास एक साल का समय था, लेकिन सरकार ने व्यवस्थाएं ठीक नहीं कीं। विपक्ष के सुझाव पर उनके मंत्री उल्टा हमला बोलते हैं।

    # लाइफ सेविंग मेडिसिन से GST हटाए सरकार
    लाइफ सेविंग मेडिसिन और मेडिकल ऑक्सीजन पर 12% जीएसटी क्यों वसूली जा रही है? वहीं कोरोना से लड़ने के लिए आवश्यक इक्विपमेंट जैसे ओक्सीमीटर और वेंटिलेटरों पर 20% जीएसटी क्यों वसूली जा रही है।) उन्होंने लॉकडाउन में बेरोजगार हुए गरीबों को हर महीने छह-छह हजार रुपये दिए।

    निर्दिष्ट किया और आरोप लगाया कि कई स्थानों पर टीके, ऑक्सीजन और वेंटिलेंटर की कमी हो रही है, लेकिन सरकार चुप्पे साधे।] वैक्सीन के एक्सप पर सवाल उठाते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि क्या टीकों के एक्सप को रोककर अपने नागरिकों की रक्षा को प्राथमिकता नहीं दी जानी चाहिए।

    सरकार को टीकाकरण के लिए अपनी प्राथमिकता पर पुनर्विचार करना चाहिए और आयुसीमा को भुकर 25 साल करना चाहिए। अस्थमा, डाय, किडनी और लीवर संबंधी बीमारियों से पीड़ित सभी युवाओं को टीका लगाया जाना चाहिए।

    इस बीच राहुल गांधी ने कोरोना संक्रमण से हो रही मौतों और आंकड़ेबाजी पर जोर दिया है। उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लिखा, शमशान और कब्रिस्तान के नाम पर वोट मांगने वाले लोगों ने अपना वादा पूरा किया। उनका इशारा भाजपा की ओर था।

    Back to top button
    %d bloggers like this: