POLITICS

कांग्रेस में चुनावी हार पर मंथन: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के नेतृत्व में 5 सदस्यीय समिति बनी; पार्टी के खराब प्रदर्शन की समीक्षा करेंगे

सहित 5 राज्यों में पार्टी के प्रदर्शन की समीक्षा करेंगे

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली 2 घंटे पहले

  • कॉपी नंबर

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक के एक दिन बाद पार्टी ने विधानसभा चुनावों में हार को लेकर एक कमेटी का गठन किया है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के नेतृत्व में 5 सदस्यीय समिति हार के कारणों पर मंथन करेगी। इस समिति में चव्हाण के अलावा, सलमान खर्शीद, मनीष तिवारी, विंसेट एच पाला और जोथी मनी शामिल हैं।

पांचों राज्यों का दौरा किया जाएगा
कहते हैं, यह समिति पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी का दौरा करेगी। कमेटी इन राज्यों के पार्टी कार्यकर्ताओं, किसानों से लेकर राज्य के शीर्ष नेतृत्व से बातचीत कर रिपोर्ट तैयार करेगी और कांग्रेस अध्यक्ष को सौंपेगी।

पश्चिम बंगाल में खाता ही नहीं खुला कांग्रेस को पश्चिम बंगाल में तेजी से झटका लगा है। पार्टी को पहली बार यहां एक सीट भी नहीं मिली। कांग्रेस ने यहां माकपा और फुरफुरा शरीफ के प्रमुख मौलवी अब्बास सिद्दिकी की पार्टी भारतीय धर्मनिरपेक्ष मोर्चा (आईएसएफ) के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही थी। यहां पार्टी एक भी सीट नहीं जीत सकी। यहाँ तक की अपने मजबूत गढ़ों में भी उसे हार का सामना करना पड़ा

असम और केरल से आस थी, पुडुचेरी में भी हार
पार्टी असम और केरल में सत्ता में वापसी कर लेगी। लेेकिन ऐसा संभव नहीं हो गया है। यहां भी पार्टी को हार झेलनी पड़ी। पुडुचेरी में पिछली बार सरकार बनाने के बाद पार्टी को यहां करारी हार का सामना करना पड़ा। हालाँकि, राहत की बात यह रही कि कांग्रेस ने TN में अपने साथी डीएमके के साथ 10 साल बाद सत्ता में संशोधन कर ली।

सोनिया गांधी ने जताई थी चिंता कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हालिया विधानसभा चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन को निराशाजनक बताया था। उन्होंने कहा था कि यह हार से सबक लेने की जरूरत है। सूत्रों के मुताबिक, CWC की बैठक में बंगाल के कांग्रेस प्रभारी जितिन प्रसाद ने राज्य में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए ISF के साथ गठबंधन को जिम्मेदार माना है। बैठक में असम में एआईयूडीएफ के साथ कांग्रेस के गठबंधन पर भी सवाल उठा।

भी कांग्रेस के खराब प्रदर्शन पर भी चर्चा हुई। अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हार पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा- इस हार पर ध्यान देना होगा। अगर सच्चाई से मुंह फेरा तो सही सबक नहीं मिलेगा।

उन्होंने कहा कि मैं एक समूह हूं बनाना चाहता हूँ, जो इस हार के हर पहलू पर विचार करेगा। हमें ये समझना होगा कि केरल और असम क्यों हारे। बंगाल में हमारे हाथ कुछ भी क्यों नहीं लगाए गए। ये कड़वे अध्याय हैं, लेकिन हम सच का सामना नहीं करेंगे और सही तथ्यों को नजरंदाज करेंगे तो सही कंप्यूटर हासिल नहीं करेंगे।

कोरोना राहत कार्यों के लिए आजाद की अगुआई में टास्क फोर्स
कांग्रेस ने कोरोना महामारी के दौरान लोगों तक राहत कार्य पहुंचाने के लिए 13 लोगों की टास्क फोर्स का गठन किया है। इसकी अगुवाई पूर्व स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद करेंगे। इस टास्क फोर्स में प्रियंका गांधी, अंबिका सोनी, जयराम रमेश, रणदीप सुरजेवाला, पवन खेड़ा और श्रीनिवास शामिल हैं।

Back to top button
%d bloggers like this: