LATEST UPDATES

ऋषि सुनक ने भारत और चीन के लिए कह दी यह बात, एक होगा खुश, दूसरा नाराज

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने पद संभालने के बाद विदेश नीति पर अपने पहले प्रमुख सहभागी चीन सरकार को आईना दिखाया। सुनक ने चीन की बढ़ती निरंकुशता को ब्रिटेन के मूल्यों और उसके लिए बड़ी चुनौती बताया है। ऐसे में उन्होंने कहा कि चीन के साथ ब्रिटेन के संबंध का स्वर्ण युग समाप्त हो गया है।

सुनक ने लंदन में लॉर्ड मेयर के ब्लूप्रिंट बैंक्वेट के दौरान कहा कि ब्रिटेन, चीन जैसे वैश्विक प्रतिस्पर्धी देशों पर आरोप लगाएंगे। यह सिर्फ कंफेक्शन मार्केटिंग के स्तर पर नहीं होगा बल्कि व्यावहारिकता भी होगी। उन्होंने कहा कि इसके लिए ब्रिटेन समान विचारधारा वाले अपने सहयोगी देशों अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और जापान के साथ संबंध को बढ़ावा देंगे और बढ़ावा देंगे।

‘चीनी चौकी पर सुनने के दौरान प्रदर्शन कर रहा हूं’

ऋषि सुनक का कहना है कि हम चीन को हमारे रिश्ते और साझेदारी के लिए बड़ी चुनौती मानते हैं। एक ऐसी चुनौती, जो चीन में लगातार बढ़ रही निरंकुशता के साथ ही और बढ़ती जा रही है।

चीन की सख्त सख्त जीरो नीति रणनीति के विरोध में लोगों के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया देते हुए सनक ने कहा कि चीन सरकार प्रदर्शन कर रही है लोगों को सुनने के लिए उनकी आवाज को नोटिस करने लगी है। बीबीसी के एक पत्रकार के साथ भी मारपीट की गई।

उन्होंने कहा कि मीडिया और हमारे सांसदों को इस तरह के मामलों को बिना किसी रोक-टोक के सामने रखना चाहिए।

भारत के साथ FTA जल्द ही होगा

इस दौरान ब्रिटेन के प्रधानमंत्री सुनक ने भारत के साथ नए मुक्त व्यापार सौदे (एफटीए) को लेकर दोगुना बढ़ा दिया। उन्होंने कहा कि जल्द ही यह नया सौदा करेगा। ठीक इसी तरह की एक डील इंडोनेशिया के साथ भी होगी।

सुनक ने कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र के साथ विश्राम को बढ़ाने के लिए हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। इसी के हिस्से के रूप में हम भारत के साथ एफटीए लाने पर विचार कर रहे हैं।

सनक ने कहा कि मेरे दादा-दादी पूर्वी अफ्रीका और भारतीय उपमहाद्वीप के जरिए ब्रिटेन आकर बस गए थे। उन्होंने ब्रिटेन को ही अपना आसियाना बना लिया। हाल के वर्षों में हमने हांगकांग, अफ़ग़ानिस्तान और यूक्रेन के हजारों लोगों का ब्रिटेन में स्वागत किया है। ब्रिटेन एक ऐसा देश है, जो हमारे मूल्यों के साथ खड़ा है।

हम यूक्रेन के साथ रामायण

सुनक ने कहा कि हम रूस के यूक्रेन के साथ मुस्तैदी से शेयर करते हैं। हम सुरक्षा और अवैध आप्रवासन जैसी हिस्सेदारी से बातचीत के लिए यूरोपीय देशों के साथ अपने संबंधों पर नई नज़रों से विचार करेंगे।

उन्होंने कहा कि हम अगले साल यूक्रेन के लिए अपनी सेना की मदद भी बढ़ा रहे हैं। हम यूक्रेन के लोगों की सुरक्षा के लिए उन्हें कई आधुनिक हथियार धारण कर रहे हैं।

Back to top button
%d bloggers like this: