POLITICS

आलिया से सवाल-मां बनने के बाद लेंगी ब्रेक:भारत में 73% महिलाएं बच्चे के बाद छोड़ देती हैं नौकरी, नए-नवेले पिता से सवाल क्यों नहीं?

  • Hindi News
  • Women
  • Manager Said Baby Is More Important For You Than Job, Boss Felt That I Will Not Return After Delivery

नई दिल्ली5 घंटे पहलेलेखक: ऐश्वर्या शर्मा

  • कॉपी लिंक

आलिया भट्ट से हाल ही में एक पत्रकार ने सवाल पूछा कि बच्चे के लिए करियर से ब्रेक लेंगी? आलिया ने पलटकर सवाल दागा एक महिला जो भी करती है वो सुर्खियां क्यों बन जाता है? शादी कर लेने या बच्चा हो जाने से मेरी प्रोफेशनल लाइफ क्यों बदलेगी?

आलिया ने सही सवाल उठाया है। बच्चे को दुनिया में लाने के लिए दो लोगों की जरूरत होती है। बच्चा हो जाने के बाद कायदे से ये मां-बाप दोनों की जिम्मेदारी होती है। लेकिन हमारे देश में ये एकतरफा जिम्मेदारी बन जाती है। इसका नतीजा ये होता है कि मां बनने के बाद 73 फीसदी महिलाएं नौकरी से इस्तीफा दे देती हैं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर रिचा मिश्रा 2021 में मां बनीं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर रिचा मिश्रा 2021 में मां बनीं।

‘हर इंटरव्यू में यही पूछा कि खुद को कैसे साबित करोगी’

बेंगलुरु में रहने वालीं रिचा मिश्रा एक आईटी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। उन्होंने बताया कि पुराने ऑफिस में वह 5 साल से काम कर रही थीं। उनके काम को हमेशा तारीफ मिली। इस बीच वह मैटरनिटी लीव पर चली गईं। जब वापस ऑफिस जॉइन किया तो उनके काम पर सवाल उठा दिए गए।

उनके सभी सहकर्मी पुरुष थे। उनके मैनेजर ने उनसे कहा कि वह परफॉर्म नहीं कर पा रही हैं। एक दिन बच्चे की तबीयत खराब थी तो उन्होंने छुट्टी ले ली। घर पर मैनेजर का कॉल आया, पीछे बच्चा रो रहा था तो उन्होंने कहा कि तुम्हारे लिए जॉब नहीं, बेबी ज्यादा जरूरी है। यह बात मुझे बहुत बुरी लगी। मैंने वहां से जॉब छोड़ दी।

चुनौती यहीं खत्म नहीं हुई। जब मैं नई नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाती थी और बताती थी कि मैटरनिटी से वापस लौटी हूं तो मुझसे सवाल किया गया कि आप कैसे खुद को साबित कर पाएंगी।

डॉली सिद्दिकी के 2 बच्चे हैं।

डॉली सिद्दिकी के 2 बच्चे हैं।

बच्चों की खातिर नाइट शिफ्ट ली

दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में मेडिकल सोशल वर्कर डॉली सिद्दिकी ने शादी के बाद बाद पढ़ाई की। वह कहती हैं कि जॉब से पहले सबसे बड़ा चैलेंज हमारी सोसाइटी होती है। पढ़ाई के बाद बच्चे हो गए तो करियर बनाने का सोचा। जब सोशल वर्क की पढ़ाई कर रही थी तभी कुछ लोगों ने बोला कि शादी हो गई, बच्चे हो गए तो पढ़ाई क्यों कर रही हो। लेकिन जब नौकरी शुरू की तो सबसे बड़ा चैलेंज था शिफ्ट। मेरी मॉर्निंग शिफ्ट थी। बच्चे छोटे हैं। कई बार उनके पिता भी उनके साथ घर पर नहीं होते तो मैंने नाइट शिफ्ट के लिए बोला। अब मैं रात की शिफ्ट करती हूं तो दिन में बच्चों को भी समय दे पाती हूं।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री अपने बच्चे को यूएन जनरल असेंबली में लेकर पहुंची थीं।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री अपने बच्चे को यूएन जनरल असेंबली में लेकर पहुंची थीं।

कुलीग्स का बदल गया बर्ताव

दिल्ली में रहने वालीं एचआर मैनेजर माधवी बोस ने बताया कि जब वह प्रेग्नेंट थीं तो उनके प्रति ऑफिस में काम करने वाले सहयोगियों का बर्ताव बदल गया था। चेकअप के लिए ऑफिस से जल्दी निकलतीं तो सब बातें बनाते थे। खुद उनके बॉस को संदेह था कि डिलीवरी के बाद वह काम पर नहीं लौटेंगी। जबकि वह बता चुकी थीं कि मैटरनिटी लीव के बाद वापस जॉइंन करेंगी। इस बात पर कोई भरोसा नहीं कर रहा। फिलहाल वह छुट्‌टी पर हैं।

बॉक्सर मैरी कॉम के तीनों बच्चे सिजेरियन हुए।

बॉक्सर मैरी कॉम के तीनों बच्चे सिजेरियन हुए।

मैरी कॉम ने भी मैनेज किया करियर

वर्ल्ड चैंपियन बॉक्सर मैरी कॉम ने एक इंटरव्यू में बताया कि 2007 में उन्हें जुड़वा बेटे हुए। वे सर्जरी से हुए थे। लेकिन इसके बाद भी वह रिंग में प्रैक्टिस करती थीं। इस बीच कई लोगों ने सोच लिया था कि मैं कभी चैंपियनशिप में जीत नहीं पाऊंगी। लेकिन मैटरनिटी ब्रेक के बाद साल 2008 की वर्ल्ड चैंपियनशिप में उन्होंने गोल्ड मेडल जीता। एशियन वुमन चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल हासिल किया। 2009 में एशियन इंडोर गेम्स में गोल्ड जीता।

2013 में फिर एक बेटा हुआ। ठीक इसके 1 साल बाद 2014 में एशियन गेम्स और 2017 में एशियन वुमन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल हासिल किया।

ऑस्ट्रेलिया की महिला सांसद लारिसा वाटर्स अपनी बच्ची के साथ संसद पहुंची और स्तनपान भी कराया।

ऑस्ट्रेलिया की महिला सांसद लारिसा वाटर्स अपनी बच्ची के साथ संसद पहुंची और स्तनपान भी कराया।

भारत में सबसे कम कामकाजी महिला

अशोका यूनिवर्सिटी के सर्वे के अनुसार 50% महिलाएं 30 साल की उम्र तक बच्चे की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ देती हैं। जबकि नई मां बनीं 73% महिलाएं इस्तीफा दे देती हैं। मात्र 27% महिलाएं ही मैटरनिटी के बाद वापस काम पर लौटती हैं। इनमें 16% महिलाएं उच्च पद पर तैनात होती हैं।

2013 में वर्ल्ड बैंक की स्टडी में चौंकाने वाली बात सामने आई। भारत में केवल 27% महिलाएं ही वर्किंग हैं। यह ब्रिक्स देशों (ब्राजील, रूस, इंडिया, चीन और दक्षिण अफ्रीका) में सबसे कम रेट है। सबसे ज्यादा रेट 64% चीन का था।

अलग-अलग कारणों से छुड़वाई जाती लड़कियों की पढ़ाई

UNICEF के सर्वेक्षण के मुताबिक कई अलग-अलग कारणों की वजह से लड़कियों को बीच में स्कूल छोड़ना पड़ता है। स्कूल छोड़ने के बाद 33% लड़कियां घरों में घरेलू कार्य करने लगी। 25% लड़कियों की पढ़ाई शादी के कारण छूट गई। कई जगहों पर यह भी पाया गया कि लड़कियों ने स्कूल छोड़ने के बाद परिजनों के साथ मजदूरी या लोगों के घरों में सफाई करने का काम शुरू कर दिया। घर में किसी बच्चे का जन्म होने के बाद उसे संभालने के लिए लड़की को पढ़ाई छोड़नी पड़ी, क्योंकि माता-पिता दोनों मजदूरी के लिए बाहर जाते हैं। ऐसे भी मामले हैं, जिनमें लड़की की बढ़ती उम्र के कारण माता-पिता ने उसकी पढ़ाई बीच में छुड़वा दी।

Back to top button
%d bloggers like this: