POLITICS

अल्फा वैरिएंट से ज्यादा खतरनाक डेल्टा वैरिएंट! हॉस्पिटलाइजेशन का खतरा दोगुना : स्टडी रिपोर्ट

अल्फा वैरिएंट से ज्यादा खतरनाक डेल्टा वैरिएंट! हॉस्पिटलाइजेशन का खतरा दोगुना : स्टडी रिपोर्ट

अध्ययनों में पाया गया है कि डेल्टा वैरिएंट अल्फा की तुलना में 50 प्रतिशत अधिक संक्रामक है.

पेरिस (फ्रांस):

कोविड-19 (Coronavirus) के अल्फा वैरिएंट (Alpha Variant) की तुलना में डेल्टा वैरिएंट (Delta Variant) ज्यादा खतरनाक है. शोधकर्ताओं ने शनिवार को ‘द लैंसेट’ में छपी रिपोर्ट में बताया है कि वायरस के डेल्टा संस्करण में अस्पतालों में भर्ती होने का जोखिम अल्फा वैरिएंट की तुलना में दोगुना है.

दोनों प्रकारों के वैरिएंट की तुलना में 43,000 से अधिक कोविड मामलों के मूल्यांकन में पता चला कि केवल 1.8 प्रतिशत ही रोगी ऐसे थे जो पूरी तरह से टीकाकृत थे. शोध में पाया गया कि तीन चौथाई लोगों ने वैक्सीन नहीं  लगवाई थी जबकि 24 फीसदी लोगों ने दो में से सिर्फ एक डोज़ ही वैक्सीन लगवाई थी.

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की एमआरसी बायोस्टैटिस्टिक्स यूनिट के एक वरिष्ठ सांख्यिकीविद् सह-प्रमुख शोध लेखक ऐनी प्रेसानिस ने कहा, “इस अध्ययन के परिणाम मुख्य रूप से हमें उन लोगों के लिए अस्पताल में भर्ती होने के जोखिम के बारे में बताते हैं, जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है या आंशिक रूप से टीका लगाया गया है.”

Maharashtra Covid-19: 11,968 सैंपल की जीनोम सीक्वेन्सिंग, 85% मामले डेल्टा वैरिएंट के

शोधकर्ताओं ने इस साल 29 मार्च से 23 मई तक इंग्लैंड में 43,338 COVID-19 मामलों के स्वास्थ्य संबंधी आंकड़ों का विश्लेषण किया, जिसमें टीकाकरण की स्थिति, आपातकालीन देखभाल, हॉस्पिटलाइजेशन और  रोगी की अन्य जानकारी शामिल है.

सभी वायरस के सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग से यह पुष्टि होती है कि रोगी को किस प्रकार का संक्रमण हुआ था. जिनोम सिक्वेंसिंग से पता चला कि केवल 80 प्रतिशत मामलों की पहचान अल्फा संस्करण के रूप में की गई थी, और बाकी डेल्टा थे.

शोध में यह भी पता चला है कि 50 में से एक मरीज को उनके COVID-19 पॉजिटिव पाए जाने के 14 दिनों के भीतर अस्पताल में भर्ती कराया गया था. शोधकर्ताओं ने बताया है कि ब्रिटेन में अब डेल्टा वैरिएंट के मामले बढ़ रहे हैं और इस वैरिएंट के 98 फीसदी मामले हो सकते हैं.

Back to top button
%d bloggers like this: