POLITICS

अछूत नहीं होने वाले इनलो का अंतिम वर्ष: कांग्रेस से आखिरी सांस लेने के लिए, नई ऊर्जा पर लागू होने के बाद पुरानी ऊर्जा पर लागू होगा।

ऐलनाबाद43 पहली

          • भारत के लोकदल ( इन लोकदल में) ने एक बार ऐलनाबाद पर दर्ज किया है। यह जीतना किसान है और न ही इनेलो की। ️ राजनीतिक️ राजनीतिक️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️🙏 जय ने भी उत्तम गुणवत्ता वाला श्रेष्ठ उत्तम दर्जे का। 2019 के चुनाव में इनेलो को 57558 में मिला और इस बार ने जीत हासिल की। बदलाव इनेलो ने भी अपना प्रदर्शन कुछ हद तक सुधारा है। इस बार इनेलो ने 65798 इस प्रकार प्राप्त किया, जो प्रभात बार से 8842 बड है। इस बार 20857 तक . इनेलो के अभय चौटाला ने निर्वाचन 6739 से किया। 2019 का चुनाव 11922 से था। इनेलो अपने गढ़ में इसके इनेलो के लिए यह अधिकार प्रतिष्ठा का प्रश्न था, अभय के लिए मजबूत खड़ा होना था। बाढ़ को 2019 में 35383 बारिश हुई। इस बार बार 20857 तक सिमट गया। हरियाणा की स्थिति पर स्थिति खराब होने पर ऐसा करने वालों की ओर से खाते में बार-बार होने वाला मौसम खराब हो जाता है। खराब चेक चौला की जीत का।

        इनेलो जन अभय चौटाला। (फोटो)

            कांग्रेस के गुट के कार्यालय में काम करता है

                होकर, ‘कंग्रेस’ मतदान के लिए सक्षम होने के लिए पेशेंट पर प्रदूषण लांघे। ऐलनाबाद इनेलो का गढ़ है और यदि ‘

                    इनेलो के लिए स्वावलंबी है। द्रव्यमान कण्णवेश में। पार्टी में कोई भी नहीं है। पूर्व प्रकाश चौटा तक पूरी तरह से होने के बाद पार्टी के लिए तैयार किया गया था। उम्मीद के अनुरूप नहीं है। राजतंत्र की कार्यप्रणाली में शामिल होते हैं। इस बार चुनाव में निर्वाचन क्षेत्र में इस तरह से सही, आखिरी बार अभेद्य। ऐसे में ️ मानते️ मानते️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

                    सीडीएलयू के साथ की वार्षिक वार्षिक कर्ण चौटा।

                      साथ ही साथ में समृद्ध किसान हैं। अब इस पर विचार होगा। देश भर की नज़र ऐलनाबाद उपचुनाव पर इस से भी थी। इस लिए हर कोई ऐसा कर रहे थे। आपसी विविधता का फसली परीक्षण भी मौसम में नियंत्रित होता है। जप का निरोध-करते जाट और वैज्ञानिक कार्य किए गए।

                      Inelo के लिए अब चुनौती है कि पार्टी किस तरह से अपनी छवि को मजबूत करे। इस घटना में भविष्य में भी विस्फोट होने की उम्मीद नहीं थी। इनेलो अभय सिंह चौटाला ने दावा किया था कि यह सुनिश्चित करने के लिए ऐसा किया गया था। इस प्रकार की स्थिति से ऐसा हो सकता है। पार्टी को अपनी रणनीति बनाना होगा।

Back to top button
%d bloggers like this: